‘चॉपर डील ‘घोटाले’ मे सीबीआई ने अदालत से क्रिश्चियन मिशेल के लिए मागे चार दिन’

हम आज बात कर रहे है वीवीआईआई हेलिकॉप्टर अगस्ता वेस्टलैंड सौदे की जो कि भारत और इटली के बीच संधि के दोरान हुई थी उस समय भारत सरकार को वायुसेना के लिए 12 वीवीआईपी हेलि‍कॉप्टर खरीदने थे इटली कि एक कंपनी 
 एंग्लो-इतालवी कंपनी अगस्ता-वेस्टलैंड से यह संधि भारत और इटली के बीच साल 2010  मे हुई थी 3600 करोड़ मे उस समय केंद्र मे कांग्रेस सरकार थी. भारत मे एक के बाद एक घोटाले होते रहे है ऐसे मे भारत कि जनता किस  राजनैतिक पार्टी पर भरोसा करे.

इस ही मामले मे दिल्ली की एक अदालत ने अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईवी चॉपर डील घोटाले के बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल की सीबीआई रिमांड चार दिन और बढ़ा दी है। पहले 10 दिसंबर को इस मामले मे सुनवाई हुई थी तो अदालत ने 15 
 दिसंबर  के लिए सुनवाई टाल दी थी. अब सीबीआई ने अदालत से मिशेल का रिमांड बढ़ाने की मांग की। सीबीआई ने कहा कि रिमांड के दौरान मिशेल से चॉपर डील घोटाले से जुड़े दस्तावेजों के संबंध में पूछताछ की गई। 
पटियाला हाऊस कोर्ट के न्यायाधीश अरविंद कुमार के समक्ष शनिवार को क्रिश्चियन मिशेल को पेश किया गया। और उन्होंने मामले को 
गंभीरता से देखते हुवे 
 मिशेल का सीबीआई रिमांड चार दिनों के लिए और बढ़ा दिया है। और सीबीआई को कहा कि मिशेल का चॉपर डील घोटाले से जुड़े कागजातों और गवाहों से आमना-सामना कराये.

सीबीआई ने आरोप लगाया है कि चॉपर डील ‘घोटाले’ मे लगभग  2, 666 करोड़ के घोटाले को अंजाम दिया गया। कहा कि मिशेल कि भूमिका बिचौलिये की थी. 
 ईडी के मुताबिक हेलिकॉप्टर अगस्ता वेस्टलैंड सौदे को अपने पक्ष मे करने के लिए 225 करोड़ रुपये दिये गये 2013 में घूसखोरी की बात सामने आने पर तत्कालीन रक्षा मंत्री ए के एंटोनी द्वारा न केवल सौदा रद्द किया गया बल्कि मामले की सीबीआई जांच के आदेश भी दिए गए थे। 
फरवरी 2017 में मिशेल को गिरफ्तार किया था एक बार फिर बता दे ये पूरा मामला इटली और भारत के बीच हुई 2010 मे संधि कि है जिस मे भारत को इटली कि कंपनी अगस्ता-वेस्टलैंड से 12 हेलिकॉप्टर खरीदने थे 

अब चॉपर डील ‘घोटाले’ मे अदालत 19 दिसंबर को इस मामले मे सुनवाई करेगे ऐसी न्यूज़ जाने के लिए क्लिक करे इंटरनेशनल न्यूज़ हिंदी.

2 thoughts on “‘चॉपर डील ‘घोटाले’ मे सीबीआई ने अदालत से क्रिश्चियन मिशेल के लिए मागे चार दिन’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *